Health Articles And Health News in Hindi

Google Ads

Breaking

पेट में गैस है? आयुर्वेदिक दवा आपके घर पर ही तो है!

Pet me gais
Gastritisic
आजकल यह समस्या एक आम बात हो गई और इसका कारण है अनहाइजेनिक फूड (फूड की स्वच्छता में कमी)। यह हर उम्र के लोगों को परेशान करने वाली समस्या है। पेट में गैस से लगभग हर आम आदमी परेशान है।

कई बार हम अपने पेट की गैस को दूर करने के लिए मार्केट से दवा खरीद कर खा लेते हैं। पर कीतनी बार दवा खाएं? इसकी भी सीमा होती है। तो इस आर्टिकल में आपलोग यह जान पाएंगे कि आप बिना दवा खाए इसे कैसे दूर कर सकते हैं। इसके इलाज के लिए बहुत सारे आयुर्वेदिक उपाय हैं पर हम आपको केवल उनही चीजों के बारे में बताने जा रहे हैं जो आपके घर पर आसानी से उपलब्द्ध होते हैं।

मेथी तो है न घर पर
इसके लिए आप आधा चम्मच मेथी लीजिए। इसके बाद आप लगभग एक ग्लास पानी लीजिए और इसका काढ़ा बना लीजिए। इस काढ़े को आप तुरंत पी लीजिए। यह बहुत ही कम समय में आपको इस समस्या से राहत प्रदान करेगा। अगर आपकी इच्छा हो तो आप मेथी के दानों को कच्चा भी चबा सकते हैं। ध्यान रखें कि मेथी के दानों की संख्या इस बात पर निर्भर करती है की आप इसे कैसे इस्तेमाल कर रहे हैं। अगर आप इसे काढ़ा बनाकर पी रहे हैं तो इसके दानों की संख्या लगभग 25-30 होनी चाहिए और अगर आप इसे कच्चा चबा रहे हैं तो इसके दानों की संख्या लगभग 15-20 के आस-पास होनी चाहिए।

अदरक भी काम करेगा
अगर आपको गैस की समस्या है तो यह घरेलू चीज भी आपके बहुत काम आने वाली है। इसके लिए आप अदरक के टुकड़े काट लीजिए। और इसके ऊपर नमक छिड़क दीजिए। अब आप इसे अपने अनुसार इसे खाएं। लेकीन आपको यह बात ध्यान में रखनी होगी कि इसके लिए आपको लगभग 5-7 ग्राम के टुकड़े ही लेने हैं और वो भी अधिक से अधिक 2 या तीन टुकड़े।

हिंग तो घर पर मिलेगा ही
आप यकीन मानिए यह आपकी रसोई मे, आपके गैस की समस्या में मदद करने के लिए तैयार बैठा है। आप 5 - 7 ग्राम हिंग लीजिए और इसे चबा कर खा लीजिए या फिर आप इसे पानी में मिलाकर लीजिए। अगर चबाकर खा रहे हैं तो भी आपको पानी पीने की जरूरत तो पड़ेगी ही। इसे खाने के कुछ देर बाद ही आपके पेट के सारे गंदे वायु बाहर आने लगेंगे।

हल्दी
हल्दी तो हर रसोई घर में होती ही है। बस आपको अपनी रसोई से हल्दी निकालनी है और उसमे सेंधा नमक जोड़कर फाक लेना है। इसके बाद आप एक ग्लास पानी पी लीजिए। हल्दी में ऐसे बहुत सारे गुण मौजूद हैं जो आपके पूरे शरीर के लिए काफी फायदेमंद हैं। गैस को दूर करने की समस्या उसी में से एक गुण है।

पानी
सबसे बेहतर उपाय है। अगर आपके पास ऊपर की कोई चीज मौजूद नहीं है और आप किसी ऐसी जगह में फँस गए है जहाँ आपको दवा भी नहीं मिलेगी तो आप इसका इस्तेमाल कर सकते हैं। अगर आप खाली पेट हैं तो आप पेट भर कर पानी पी लीजिए और गले में उंगली डालकर पेट का सारा पानी बाहर निकाल दीजिए। ध्यान रहे यह उपाय केवल खाली पेट के लिए है। अगर आपका पेट भरा हुआ है तो आप केवल पानी ही पीजिए और अधिक से अधिक पीजिए। यह आपके मूत्र के माध्यम से आपके पेट से गैस सहित और भी सारे विकारों को बाहर निकाल देगा।


आइये इसके कारण को भी जान लेते हैं। इसका फायदा यह होगा कि अगर आप इसके कारण को जान लेते हैं तो आप आने वाले दिनों में आप इन सारी चीजों से परहेज रखने की कोशिश जरूर करेंगे।

² अधिक देर तक बैठ कर काम करने पर। अगर यह कारण है तो आप इससे बचने के लिए हर दो घंटे में अपनी जगह से उठ कर थोड़ा चल लीजिए।
² खाना खाने के तुरंत बाद काम करने पर। इसके लिए आप तो जानते ही हैं कि आपको क्या करना है। बस थोड़ा टहलने की कोशिश कीजिए और अगर आप टहल नहीं पाते हैं तो थोड़ी देर तक खड़े रहने की जरूर कोशिश करें।
² शराब, खैनी, गुटखा और स्मोकींग करने पर। जब आप अपने काम पर बैठे हों तो इसे अपने मुँह में न डाले और अगर आप अल्कोहल का सेवन करते हैं तो उसे छोड़ने की कोशिश करें। अगर छोड़ने में समस्या है तो आप कृपया खाली पेट न लें क्योंकी यह गैस सहित और भी बहुत सारी समस्याओं को निमंत्रण देता है।
² समय से पहले न खाना खाने पर।
² फास्ट फूड और अधिक तले हुए भोजान करने की वजह से।
² कुछ लोगों में यह समस्या होती है की उन्हे दूध पीने, कोल्ड ड्रिंक्स पीने से गैस की समस्या होती है।
² आपके लिवर में अधिक फैट होने पर।
² पथरी की समस्या होने पर।
² पाचन तंत्र कमजोर होने पर।
² पित्त का रोग होने पर।

चलिए अब इसे दूर करने वाले योग के बारे में बात करते हैं। इसकी लिस्ट जाने की कोई जरूरत नहीं आप केवल उसी के बारे में जानिए जो आपको काफी लाभ प्रदान करने में सक्षम है।  

पवनमुक्तासन

जमीन पर चटाई या आसन बिछा लीजिए। इसके बाद आप अपनी पीठ के बल लेट जाइए। मतलब की अब आप चित्त होकर लेटे हैं। इसके बाद आप अपने पैरो को घुटनों तक मोड लीजिए और मोड़ने के बाद आप इसे अपने पेट के समीप लाने की कोशिश करें। जब यह आपके पेट के करीब आ जाए तो आप घुटनों में अपनी नाक लगाने की कोशिश करें। और फिर धीरे-धीरे इसे फिर से नॉर्मल कर दें। ध्यान रहे, जब आप घुटनो को पेट के समीप ला रहे हैं तो आपको अंदर की तरफ सांस लेनी है और जब आप नॉर्मल करेंगे तो सांस बाहर की तरफ छोडनी है।

अगर आपको यह पोस्ट अच्छी लगी तो प्लीज हमारे फेसबुक पेज को लाइक करें और इस आर्टिकल को अधिक से अधिक शेयर करें। आप कमेंट बॉक्स मे अपना कमेंट भी दे सकते हैं। 

No comments:

Post a Comment

Thanks For Your Comment. We shall revert you shortly.

Post Top Ad

Your Ad Spot

Pages