Health Articles And Health News in Hindi

Google Ads

Breaking

क्या आपकी नींद पूरी नहीं होती? आयुर्वेद के पास इसका बेतोड़ जवाब है



sone me pareshani
Sleeping Dificulties

अगर आपकी नींद पूरी नहीं होती तो यह आपके दिन भर के काम में बाधा देता है। आपका किसी भी काम में ठीक से मन नहीं लगता, आप थोड़ी सी बात पर चिढ सकते हैं, आपके हिसाब-किताब में गड़बड़ी हो सकती है, आपका प्रेजेंटेशन खराब हो सकता है और भी बहुत है, इसकी पूरी लिस्ट गिनाई जा सकती है। आप यह जान लें की नींद में कमी आपके पूरे शरीर को निचोड़ कर रख देता है और यह सीधे आपके इम्यून सिस्टम पर असर करता है। इम्यून सिस्टम आपके शरीर का एक ऐसा सिस्टम है जो आपको रोगों से लड़ने में मदद करता है। इस तरह आप कई प्रकार की बीमारियों के शिकार भी बन सकते हैं। आमतौर ठीक से न सो पाने पर स्ट्रेस, टेंशन, हाइ बीपी और भी बहुत से रोगों की संभावनाएं बढ़ जाती है। लेकिन आयुर्वेद के पास इस मर्ज का इलाज है। आयुर्वेद के अनुसार आप कुछ स्टेप्स को अपनाकर अपनी इस समस्या का समाधान पा सकते हैं। तो अब हम समाधान की तरफ बढ़ते हैं।

पहला स्टेप  
अप हर दिन शाम को थक कर अपने घर आते हैं। इस स्थिति में आपके लिए गर्म पानी का स्नान एक राहत दे सकता है। लेकिन ध्यान रहे ऑफिस या काम से आने के तुरंत बाद स्नान नहीं करना है। आपको अपने सोने के लगभग आधे घंटे पहले स्नान करना है। इसका कारण यह है कि आपको रात में अच्छी नींद पाने के लिए ताजा और आराम महसूस करना जरूरी होता है। इसलिए आप हल्के गुनगुने पानी में गुलाब जल और चमेली का तेल मिलाएँ क्योंकि आयुर्वेद का मानना है कि इन दोनों में स्ट्रेस को कम करने का गुण होता है। इसके बाद आप 10-12 मिनटों तक इसका आनंद लें।

दूसरा स्टेप
आपने स्नान कर लिया, मतलब आपने अपने शरीर को आराम की दिशा में मोड दिया है। अब आपके ब्रेन की बारी है। आप खुली हवा में 3-5 मिनटों के लिए बैठे और प्रणायाम करें। ध्यान रहे बंद कमरे में नहीं, अगर आपके पास छत या फिर कोई खुली जगह नहीं है तो आप अपने घर की खिड़की के पास बैठे। अपने बाएँ नथुने को बंद करें और दायें से सांस अंदर लें। अब दायें को बंद करके बाएँ से सांस छोड़ें। इसके बाद यही उल्टे क्रम में करें, मतलब अबकी बार आपको बाएँ से सांस लेना और दाएँ से सांस छोड़ना है।

तीसरा स्टेप
इसके बाद आपको अपने रात का भोजन करना है और उसके 10-15 मिनटों के बाद गर्म दूध पीना है। अगर आपके पास दूध का ऑप्शन नहीं है तो भी कोई बात नहीं। इस मामले में आप खाना खाने के कुछ मिनटों के बाद भरपूर मात्रा में पानी पी लीजिए। और अगर आपके पास दूध का ऑप्शन है तो आप गर्म दूध भी पी सकते हैं या फिर उसमे जायफल मिलाकर भी पी सकते हैं। जायफल एक ऐसा फल है जो अच्छी क्वालिटी वाली नींद को बढ़ावा देता है।

चौथा स्टेप
अब अपने पेट और कनपटी की हल्के से मालिश करें या फिर करवाएँ। इसके लिए आप किसी सुगंधित ठंडे तेल का इस्तेमाल कर सकते हैं। ऐसा करने पर तेल आपके शरीर के पूरे सिस्टम को शांत कर देता है और आपका मस्तिष्क (ब्रेन) विश्रांत (रिलैक्स) हो जाता है।

आखिरी स्टेप
इन सारी क्रियाओं को करने के बाद आप खुद ही धीरे-धीरे नींद की तरफ बढ्ने लगेंगे। अब आपको थोड़ा सा साइकोलोजिकल काम करना है, अपने मन को खुश करना है। आयुर्वेद यह मानता है कि अगर आपका मन, आत्मा खुश हो तो आप चैन की नींद ले सकते हैं। इसलिए इस चरण में आप अपने दिमाग में उन सारी बातों को सोचिए जो आपको अच्छी लगती हैं। महज उदाहरण के लिए अगर आपको पैसे की तंगी है तो किसी लॉटरी की बात और उससे क्या-क्या करेंगे ऐसी बात। आपको सुबह उठकर पता चलेगा कि आप पूरी बात सोच ही नहीं पाए और अभी आपने बस सोचना आरंभ ही किया था कि सारी बातें धूमिल हो गईं और आप किसी और दुनिया में चले गए। यह महज एक उदाहरण है आप अपनी उम्र और अपनी जरूरतों के अनुसार कुछ भी अच्छा सोच सकते हैं। 

अगर आपको यह पोस्ट अच्छी लगी तो प्लीज इसे शेयर करें और हमारे फ़ेसबुक पेज को लाइक करें।





No comments:

Post a Comment

Thanks For Your Comment. We shall revert you shortly.

Post Top Ad

Your Ad Spot

Pages