Health Articles And Health News in Hindi

Google Ads

Breaking

आखिर HIV एड्स है क्या : लक्षण, कारण और इलाज

hiv virus
Hiv Aids



HIV एक वायरस है जो अगर किसी व्यक्ति के शरीर में एक बार प्रवेश कर जाता है तो उसके पूरे इम्यून सिस्टम को दिन-प्रतिदिन कमजोर बना देता है और व्यक्ति के अंदर रोग से लड़ने की क्षमता कम हो जाती है।
इसका मतलब है - Human (मनुष्य), Immuno Deficiency (इम्यून सिस्टम कमजोर करने वाला), Virus (विषाणु)। तो आपलोग इसके पूरे नाम से यह जरूर जान पाए होंगे की यह वायरस लोगों के शरीर में फैलकर उनके शरीर के इम्यून सिस्टम को कमजोर कर देता है। अब आप यह जान लीजिए की AIDS क्या है। यह चार शब्दों से मिलकर बना है - Acquired (प्राप्त किया गया), Immuno (इम्यून सिस्टम), Deficiency (कमजोरी) Syndrome (लक्षण)। मतलब कि एक ऐसी बीमारी जो आपके शरीर को रोगों से रक्षा करने में अयोग्य बना देती है।

यह वायरस अफ्रीका में उत्पन्न हुआ और धीरे-धीरे आज यह पूरी दुनिया में फैल चुका है। भारत के महाराष्ट्र राज्य में इस बीमारी के सबसे अधिक मामले सामने आए हैं। जब यह वायरस किसी व्यक्ति के शरीर में प्रवेश करता है तो शुरुआती दौर में इसके बारे में उतना पता नहीं चलता है। पर धीरे-धीरे यह अपना असर दिखाना शुरू कर देता है। तो आइये हम पहले यह जान लेते हैं कि जब यह वायरस हमारे शरीर में प्रवेश करता है तो इसके क्या-क्या लक्षण दिखाई पड़ते हैं।

लक्षण
  • खाने के तुरंत बाद मितली आना।
  • हमेशा जुकाम रहना।
  • त्वचा पर खुलजी का अधिक बढ़ जाना।
  • दिनभर सिर में दर्द होना।
  • दिनभर गले में खराश होना।
  • जोड़ों में दर्द होना।
  • शरीर का वजन अचानक से कम होना।
  • बिना किसी एक्टिविटी के शरीर की मांसपेशियों में दर्द होना।
  • अधिक प्यास लगना।
  • बिना किसी कारण के स्ट्रेस होना।
  • पूरे शरीर पर लाल चकत्ते पड़ना।
  • बार-बार बुखार आना। आज बुखार कल ठीक, परसो फिर से तेज बुखार।
  • बिना किसी एक्टिविटी के थका हुआ महसूस करना।
  • कफ की समस्या होना।


बीमारी के कारण

  • HIV AIDS से संक्रमित व्यक्ति के द्वारा इस्तेमाल की गई सुई का उपयोग करना।
  • बिना संरक्षण के यौन संबंध।
  • संक्रमित व्यक्ति से यौन संबंध।
  • संक्रमित व्यक्ति से रक्तदान।
  • शरीर के कटे हुए स्थान पर संक्रमित व्यक्ति का रक्त लगना।
  • संक्रमित गर्भवती महिला के बच्चों को स्तनपान से भी यह इन्फेक्शन फैल जाता है।

किन चीजों से यह वायरस नहीं फैलता

  • मच्छर या कीड़े के काटने से।
  • हाथ मिलाने से।
  • गले लगने से।
  • एक ही थाली में खाना खाने या एक ग्लास में पानी पीने से।
  • एक ही बाथरूम इस्तेमाल करने से।

बचने के उपाय

दरअसल, यह वायरस व्यक्ति के इम्यून सिस्टम पर हमला करता है और अगर उसके शरीर की रोग प्रतिरोधक प्रणाली ( इम्यून सिस्टम) कमजोर हो तो यह जल्दी ही फैल जाता है। हालांकि एक रिपोर्ट के अनुसार इस वायरस के शरीर के अंदर प्रवेश करने के बाद पूरी तरह फैलने की समय-सीमा उसके इम्यून सिस्टम पर ही निर्भर करती है। किसी-किसी व्यक्ति में इस वायरस को पूरी तरह फैलने में 10 सालों तक का समय लग जाता है। इसने बचने के लिए आप यह सब करे।

  • हरी पत्तेदार सब्जियाँ खाएं।
  • अनाज अधिक खाएं न की फास्ट फूड पर ही दिन गुजार लें।
  • दाल अधिक खाएं।
  • ऐसे फूड खाएं जिनमे फैट कम हो।
  • मीठी चीजों का सेवन अधिक न करें।
  • कोल्ड ड्रिंक्स अधिक न लें।
  • शराब के सेवन से बचें।
  • खुद को किसी फिजिकल एक्टिविटी में व्यस्त रखें और व्यायाम करें।
  • योग - गुप्त पद्मासन और प्रणायाम करें।
  • शौचालय जाने से पहले और बाद में अच्छे से हाथ साफ करें।
  • अपने नाखून साफ रखें।

अपने आप को किसी भी तरह के इन्फेक्शन से दूर रखें और इसके लिए आप इन सारी चीजों का पालन कर सकते हैं। किसी संक्रमित व्यक्ति के शरीर के द्रव (रक्त, वीर्य आदि) के संपर्क में रहने पर आपके अंदर वायरस प्रवेश कर सकता है। अगर वायरस ने प्रवेश कर भी लिया और आपका शरीर हष्ट-पुष्ट रहेगा तो इसे अपना असर दिखाने में कई साल का समय लग जाएगा। इसलिए आप अपने शरीर के इम्यून सिस्टम को मजबूत बनाए रखें।

अगर आपको यह पोस्ट अच्छी लगी तो इसे अधिक से अधिक शेयर करें।

No comments:

Post a Comment

Thanks For Your Comment. We shall revert you shortly.

Post Top Ad

Your Ad Spot

Pages